Subscribe Us

header ads

Bacho ka bistar gila karna ayurvedic ilaj | बच्चो का बिस्तर गिला करना आयुर्वेदिक इलाज

Bacho ka bistar gila karna ayurvedic ilaj

बच्चे को विस्तार पर जाने से पहले एक बार पेशाब अवश्य कर देना चाहिए। रात को सोते समय बच्चो को शहद चटाने से यह रोग समाप्त हो जाता है।

जामुन की गुठलियों को छाया में सुखाकर बारीक पीस लें। इस चूण का 2-2 ग्राम दिन में दो चार पानी के साथ सेवन करने से बच्चे बिस्तर पर पेशाब करना बंद कर देते हैं।

एक पाव दूध में एक छुहारा डालकर उबाल लें। इसे दो घंटे तक रखा रहने दें। इसके बाद इसमें से छुहारा निकालकर बच्चे को खिला दें और इस दूध को हल्का गर्मकरके ऊपर से पिला दें। ऐसा प्रतिदिन करने से कुछ ही दिनों में बच्चो का बिस्तर पर पेशाब करना बंद हो जाता है।

पचास ग्राम अजवायन का चूर्ण बना लें। प्रतिदिन एक ग्राम चूर्ण को रात को सोने से पूर्व बच्चे को खिलाएं ऐसा कुछ दिनों तक नियमित रूप से करने से यह रोग ठीक हो जाता है।

दो मुनककों के बीज निकालकर उसमें 1-1 काली मिर्च डालकर बच्चों को रात को सोने से पहले मिला दें। दो हप्ते नियमित सेवन से यह बीमारी दूर हो जाती है।

प्रतिदिन एक अखरोट और 4-5 किशमिश खिलाने से बिस्तर में पेशाब करने की समस्या दूर हो जाती है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां