Subscribe Us

header ads

Food poisoning ka ilaj | फ़ूड पोइज़निंग का इलाज

Food poisoning ka ilaj

दही एक एंटी-बायोटिक है, जो फूड प्वाइजनिंग हो जाने पर जरूर लेना चाहिए। इससे ये समस्या जल्द ठीक होती है।

एलोवेरा का जूस डाइजेशन में मददगार होता है। जब भी ऐसी परेशानी हो, आधा कप एलोवेरा जूस पी लें।

अदरक एक प्रातिक एंटी-बायोटिक है, जो फूड प्वाइजनिंग की समस्या में रामबाण औषधि है। चाहें तो इसकी चाय भी पी सकते हैं या फिर खाने में इसका इस्तेमालकर सकते हैं।

नीबू में ऐसे कई एसिड पाए जाते हैं, जो खाने को जल्दी पचा देते हैं। नीबू पेट में पल रहे बैक्टीरिया को मारता है। इसलिए इस समस्या में नीबू पानी पीना भी बहुत लाभदायक होता है।

तुलसी पेट की समस्या में सबसे बेहतरीन दवा है। तुलसी से बनी चाय पिएं। तुलसी पत्तों रस कुछ बूंद लें। इससे भी फूड प्वाइजनिंग के कारण होनेवाली समस्या खत्म हो जाएगी।

जीरे को फूड प्वाइजनिंग के लिए सबसे बेहतरीन औषधि माना जाता है। जीरा खाने से सूजन कम हो जाती है। एक चम्मच भुना जीरा खाने पर फूड प्वाइजनिंग की समस्या में तुरंत राहत मिलती है।

अनार का रस पेट की समस्याओं के लिए सबसे बड़ी औषधि है। इसके अलावा, अनार के पेड़ की छाल भी पेट की कई बीमारियों को ठीक करने में मददगार होती है।

ब्राउन शुगर फूड प्वाइजनिंग के कारण आई कमजोरी दूर करने की एक रामबाण दवा है। फूड प्वाइजनिंग के कारण जब कमजोरी महसूस करें तो एक चम्मच ब्राउन शुगर खा लें। इससे ऊर्जा मिलेगी।

फूड प्वाइजनिंग होने पर 1 चम्मच एप्पल साइडर वेनिगर लें। इससे पेट की समस्या बहुत जल्दी ठीक हो जाती है।

एक छोटा चम्मच मेथी दाना आधा कप पानी में भिगो दें। आधे घंटे के बाद पानी छानकर मेथी को थोड़ा-थोड़ाकर पूरे दिन खाइए। इससे फूड प्वाइजनिंग के कारण होनेवाली समस्याएं दूर हो जाएंगी।

ब्लैक टी और ग्रीन टी पीने से भी राहत मिलती है। इनमें एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, जो शरीर से जहरीले तत्त्वों को बाहर निकालते हैं।

केले में पोटेशियम होता है, इसीलिए यह उल्टी और दस्त से राहत दिलाता है।

Source code : amazon kindle

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां