Subscribe Us

header ads

Muh ke chale ka ilaj | मुँह के छाले का इलाज

Muh ke chale ka ilaj

कत्था, मुलहठी का चूर्ण और शहद मिलाकर मुँह के छालों पर तीन चार दिन तक दिन में 2-3 बार लगाना चाहिए।

दिन में 3-4 बार शुद्ध घी या मक्खन को मुँह के छालों में लगाना चाहिए। नीबू के रस में शहद मिलाकर इसके कुल्ले करने से भी मुँह के छाले शीघ्र दूर होते हैं।

मुहँ के छाले होने पर अमृतधारा में शहद मिलाकर उसे दिन में 3-4 बार रुई से लगाना चाहिए।

दो ग्राम भुना हुआ सुहागा का बारीक चूर्ण पंद्रह ग्राम ग्लिसरीन में मिलाकर दिन में दो तीन बार मुँह एवं जीभ के छालों पर लगायें।

पानी में नारियल का तेल मिलाकर उसके गरारे करने से भी जल्दी लाभ मिलता है।

अलसी के कुछ दाने दिन में 2-3 बार चबाने से मुहँ के छालों में आराम मिलता है।

मट्ठा पीने से छालों में शीघ्र लाभ मिलता है।

नीम के टूथपेस्ट या नीम के मंजन से भी  मुँह के छालो में आराम मिलता है। सूखे पान के पत्ते का चूर्ण बनाकर इस चूर्ण को शहद में मिलाकर दिन में 3-4 बार चाटना चाहिए।

शहद में मुलहठी का चूर्ण मिलाकर इसका लेप मुँह के छालों पर करें और लार को मुँह से बाहर टपकने दें।

छोटी हरड़ को महीन पीसकर छालों पर लगाने से मुँह तथा जीभ के छालों से निश्चित रूप से छुटकारा मिलता है। इसे दिन में दो तीन बार अवश्य ही लगायें।

तुलसी की चार-पाँच पत्तियां नित्य सुबह और शाम चबाकर ऊपर से दो चूंट पानी पीयें। मुँह के छाले शीघ्र ठीक जाते है।

मुँह में छाले होने पर सुबह शाम अडूसा के 2-3 पत्तों को चबाकर उनका रस चूसना चाहिए।

कत्थे को मुहँ के छालों में लगाने से जल्द लाभ मिलता है।

अमरूद के कोमल ताजे पत्तों में कत्था मिलाकर पान की तरह चबाने से भी मुँह के छाले ठीक हो जाते हैं।


Source code : amazon kindle

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां