Subscribe Us

header ads

ulti aana ulti rokne ke ayurvedic upay | उलटी आना उलटी रोकने के आयुर्वेदिक उपाय

ulti aana ulti rokne ke ayurvedic upay

तुलसी के रस में बराबर की मात्रा में शहद मिलाकर चाटने से उल्टी बंद हो जाती है।

दो चम्मच शहद में बराबर मात्रा में प्याज का रस मिलाकर चाटने से उल्टी बंद हो जाती है।

दिन में 5-6 बार एक-एक चम्मच पोदीने का रस पीने से उल्टी बंद हो जाती है।


उल्टी होने पर नीबू का रस पानी में घोलकर लेने से शीघ्र फायदा होता है।

एक-दो लौंग, दालचीनी या इलायची मुहँ में रखकर चूसिए। यह मसाले उल्टियाँ विरोधक औषधियों होने के कारण उल्टियाँ रोकने में बहुत मददगार साबित होते है।

तुलसी के पत्तों का एक चम्मच रस शहद के साथ लेने से उल्टी में लाभ मिलता है।

एक चम्मच प्याज का रस पीने से भी उल्टी में लाभ मिलता है।

गर्मियों में यदि बार बार उल्टियाँ आती है तो बर्फ चूसनी चाहिए।

पुदीने के रस को लेने से भी उल्टी में लाभ मिलता है।

धनिये के पत्तों और अनार के रस को थोड़ी-थोड़ी देर के बाद बारी-बारी से पीने से भी उल्टी रुक जाती है।

चौथाई चम्मच सोंठ एक चम्मच शहद के साथ लेने से उल्टी में शीघ्र आराम मिलता है।

नीबू का टुकड़ा काले नमक के साथ मुंह में रखने से उल्टी महसूस नहीं होती, रुक जाती है।

आधा चम्मच पिसे जीरे का पानी के साथ सेवन करने से उल्टियों से शीघ्र छुटकारा मिलता है।

एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका डालकर पिएं, उल्टी में तुरंत आराम मिलेगा।

पित्त की उल्टी होने पर शहद और दालचीनी मिलाकर चाटें।

हरड़ को पीसकर शहद के साथ मिलाकर चाटने से उल्टी बंद होती है।

दही, भात को मिश्री के साथ खाने से दस्त में आराम आता है।

एक एक चम्मच अदरक, नीबू का रस काली मिर्च के साथ लेने से दस्त में आराम मिलता है।

सौंफ और जीरे को बराबर-बराबर मिलाकर भूनकर पीस लें। इसे आधा-आधा चम्मच पानी के साथ दिन में तीन बार लेने से दस्तों में फायदा मिलता है।

केले, सेब का मुरब्बा और पके केले का सेवन करें, दस्त में तुरंत आराम मिलेगा।

अदरक का टुकड़ा चूसें या अदरक की चाय पियें। पेट की मरोड़ भी शांत होती है और दस्त में भी आराम मिलता है।
दस्त रोकने के लिए चावल के माड़ में नमक और काली मिर्च डालकर उसका सेवन करें, दस्त रुक जाएंगे।

जामुन के पेड़ की पत्तियाँ पीसकर उसमें सेंधा नमक मिलाकर चौथाई चम्मच दिन में दो बार लेने से दस्त रुक जाते हैं।

दस्त आने पर दूध और उससे बनी हुई चीजों का सेवन बिलकुल न करें। दस्त आने पर दस्त के साथ शरीर के खनिज वा तरल पदार्थ बाहर निकलते है इनकी कमी पूरी करने के लिए ओआरएस का घोल पियें।

सरसों के तेल में नमक मिलाकर गुनगुना करके पूरे बदन पर मालिश करके गर्म पानी में नहा लें। इससे तुरंत राहत मिलती है।
 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां