Subscribe Us

header ads

jamun ke fayde | जामुन के फ़ायदे

jamun ke fayde

जामुन का सेवन डायबिटीज के रोगियों के लिए बेहद फायदेमंद है। यह डायबिटीज के मरीजों को बार-बार प्यास लगने व अधिक बार यूरीन पास होने की समस्या में भी मददगार है।


जामुन लिवर को मजबूत बनाता है और मूत्राशय में आई असामान्यता को सामान्य बनाने में सहायक होता है। जामुन का रस, शहद, आंवले या गुलाब के फूल का रस बराबर मात्रा में मिलाकर एक-दो माह तक रोजाना सुबह के समय सेवनकरने से शारीरिक दुर्बलता दूर होती है। इससे यौन शक्ति और स्मरण शक्ति भी बढ़ जाती है।

 

जामुन के रस के नियमित सेवन से बाल लंबी उम्र तक काले बने रहते हैं। गले के रोगों में जामुन की छाल को बारीक पीसकर पाउडर बना लें। इस पाउडर को पानी में घोलकर माउथ वॉश की तरह गरारे करना चाहिए। इससे

गला तो साफ होगा ही, सांस की दुर्गंध भी दूर हो जाएगी और मसूढ़ों की बीमारियां भी दूर हो जाएंगी।

 

जामुन के एक किलोग्राम ताजे फलों का रस निकालकर ढाई किलोग्राम चीनी मिलाकर शर्बत जैसी चाशनी बना लें। इसे एक ढक्कनदार साफ बोतल में भरकर रख लें। जब कभी उल्टी-दस्त या हैजा जैसी बीमारी की शिकायत हो, तब दो चम्मच शर्बत और एक चम्मच अमृतधारा मिलाकर पिलाने से तुरंत राहत मिल जाती है।

 

जामुन और आम का रस बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से डायबिटीज के रोगियों को लाभ होता है। गठिया के उपचार में भी जामुन बहुत उपयोगी है। इसकी छाल को खूब उबालकर बचे हुए घोल का लेप घुटनों पर लगाने से गठिया में आराम मिलता है।

 

जामुन में कई प्रकार के मिनरल्स, जैसे कैल्शियम, आयरन और विटामिन सी अच्छी मात्रा में होते है। इस वजह से यह हड्डियों के लिए फायदेमंद तो है ही, साथ ही शरीर की प्रतिरोधी क्षमता को बढ़ाता है। जिन लोगों को खून की कमी है, उनके लिए जामुन का सेवन संजीवनी बूटी की तरह ही है।

 

जामुन में पोटेशियम की मात्रा अधिक है। 100 ग्राम जामुन के सेवन से शरीर को 55 मिलीग्राम पोटेशियम मिलता है। इससे दिल का दौरा, उच्च रक्तचाप और स्ट्रोक आदि का रिस्क कम होता है। जामुन का फल ही नहीं, बल्कि इसकी पत्तियों के भी काफी फायदे हैं। आयुर्वेद में इसकी पत्तियों का पाचन ठीक रखने और मुंह से जुड़ी समस्याओं में काफी इस्तेमाल किया जाता है।

 

जामुन के कच्चे फलों का सिरका बनाकर पीने से पेट के रोग ठीक होते हैं। यदि भूख कम लगती हो और कब्ज की शिकायत रहती हो तो इस सिरके को ताजे पानी के साथ बराबर मात्रा में मिलाकर सुबह और रात के समय एक हफ्ते तक नियमित रूप से सेवनकरने से कब्ज दूर होती है और भूख बढ़ती है।

 

जामुन स्वाद में खट्टा-मीठा होने के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है।

 

यदि कोई जहरीला कीड़ा काट खाए तो रोगी को जामुन की पत्तियों का रस पीना चाहिए। कीड़े द्वारा काटे गए स्थान पर इसकी ताजी पत्तियों का पेस्ट लगाकर पट्टी बांधने से कीड़े के जहर का असर खत्म हो जाता है।




Source code : amazon kindle

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां