Subscribe Us

header ads

kari patta ke fayde | करि पत्ता के फ़ायदे

kari patta ke fayde

करी पत्ते में एंटी - डायबिटिक एंजेट होते हैं । यह शरीर में रक्त शुगर स्तर को कमकरता है । साथ ही , इसमें मौजूद फाइबर भी डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद होता है ।

 

करी पत्ता मोटापे को कमकर के डायबिटीज दूरकर सकता है ।

 

करी पत्ते में रक्त कोलेस्ट्रॉल को कम करनेवाले गुण होते हैं , जिससे दिल की बीमारियों से बचे रहते हैं । यह एंटी - ऑक्सीडेंट्स से भरपूर होते हैं , जो कोलेस्ट्रॉल का ऑक्सीकरण होने से रोकते हैं । दरअसल , ऑक्सीत कोलेस्ट्रॉल

बैड कोलेस्ट्रॉल बनाते हैं जो हृदय रोग को न्योता देते हैं ।

 

करी पत्ते में कार्बाजोल एल्कालॉयड्स होते हैं , जिससे इसमें एंटी - बैक्टीरियल और एंटी - इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं । ये गुण पेट के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं ।

 

यह पेट से पित्त भी दूरकरता है , जो डायरिया होने का मुख्य कारण है । अगर डायरिया से पीड़ित हैं तो ककरी के कुछ पत्तों को पीसकर छाछ के साथ पिएं ।

 

सूखा कफ , साइनसाइटिस और चेस्ट में जमाव है तोकरी पत्ता बेहद असरदार उपाय हो सकता है । इसमें विटामिन सी और ए के साथ एंटी - बैक्टीरियल और एंटी - फंगल उद्मट होते हैं , जो जमे हुए बलगम को बाहर निकालने में मददकरते हैं । कफ से राहत पाने के लिए एक चम्मच कढ़ी पाउडर को एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें । अब इस मिक्सचर को दिन में दो बार पिएं ।

 

करी पत्ता लिवर को ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से बचाता है , जो हानिकारक तत्त्व जैसे मरकरी ( मछली में पाया जाता है ) और एल्कोहल की वजह से लिवर पर पड़ता है । घर के बने हुए घी को गर्मकरके उसमें एक कपकरी पत्ते का जूस मिलाएं । इसके बाद थोड़ी सी चीनी और पिसी हुई काली मिर्च मिलाएं । अब इस मिक्सचर को कम तापमान में गर्मकरके उबाल लें और उसे हल्का ठंडाकरके पिएं ।

 

करी पत्ते में आयरन और फोलिक एसिड उच्च मात्रा में होते हैं । एनीमिया शरीर में सिर्फ आयरन की कमी से नहीं होता , बल्कि जब आयरन को अब्जॉर्बकरने और उसे इस्तेमालकरने की शक्ति कम हो जाती है , तो इससे भी

एनीमिया हो जाता है । इसके लिए शरीर में फोलिक एसिड की भी कमी नहीं होनी चाहिए , क्योंकि फोलिक एसिड ही आयरन को अब्जॉर्बकरने में मददकरता है ।

 

अगर एनीमिया से पीड़ित हैं तो एक खजूर को दोकरी पत्तों के साथ खाली पेट रोज सुबह खाएं । इससे शरीर में आयरन स्तर ऊंचा रहेगा और एनीमिया होने की संभावना भी कम होगी ।

 

मासिक धर्म के दिनों में होनेवाली परेशानी व दर्द से निजात पाने के लिए कढ़ी पत्ता काफी असरदार होता है । इसके लिए मीठे नीम या कढ़ी के पत्तों को सुखाकर इनका बारीक पाउडर तैयारकर लें । अब एक छोटा चम्मच इस मिक्सचर को गुनगुने पानी के साथ सेवनकरें । सवेरे और शाम दिन में दो बार इसे लें । कढ़ी , दाल , पुलाव आदि के साथ कढ़ी पत्ते का नियमित सेवन बेहद फायदेमंद है ।

 

करी पत्ते में विटामिन बी 1 बी 3 बी 9 और सी होता है । इसके अलावा , इसमें आयरन , कैल्शियम और फॉस्फोरस की भी भरपूर मात्रा होती है । इसके इस्तेमाल से बाल सफेद होने से बच सकते हैं । रातभर भीगे हुए बादाम को छीलकर पानी और 10-15 कढ़ी पत्ता के साथ पीस लें । इस पेस्ट को सिर की त्वचा पर लगाकर मालिशकरें । इसके बाद किसी अच्छे माइल्ड शैम्पू से बाल धो लें ।

 

ऐसा हफ्ते में एक बारकरने से कुछ ही हफ्तों में रिजल्ट सामने होगा ।


Source code : amazon kindle

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां