Subscribe Us

header ads

doob ghas ke fayde | दूब घास के फ़ायदे

doob ghas ke fayde

दूब या दूर्वा वर्ष भर पाई जानेवाली घास है, जो जमीन पर पसरते हुए या फैलते हुए बढती है।

 

यह घास औषधि के रूप में विशेष तौर पर प्रयोग की जाती है। दूब के कुछ औषधीय गुण निम्नलिखित हैं-

नकसीर में इसका रस नाक में डालने से लाभ होता है।

 

इस घास के काढ़े से कुल्लाकरने से मुँह के छाले मिट जाते है।

 

दूब का रस पीने से पित्त जन्य वमन ठीक हो जाता है।

 

इस घास से प्राप्त रस दस्त में लाभकारी है।

 

यह रक्तस्राव, गर्भपात को रोकती है और गर्भाशय और गर्भ को शक्ति प्रदानकरती है।

 

दूब को पीसकर दही में मिलाकर लेने से बवासीर में लाभ होता है।

 

इसके रस को तेल में पकाकर लगाने से दाद, खुजली मिट जाती है।

 

दूब के रस में अतीस के चूर्ण को मिलाकर दिन में दो-तीन बार चटाने से मलेरिया में लाभ होता है।

 

इसके रस में बारीक पिसा नागकेशर और छोटी इलायची मिलाकर सूर्योदय के पहले छोटे बच्चों को नस्य दिलाने से वे तंदुरुस्त होते है।

 

दूब को पीसकर फटी हुई बिवाइयों लेपकरने से लाभ होता है।

 

दूब पर सुबह के समय नंगे पैर चलने से नेत्र ज्योति बढती है और अनेक विकार शांत हो जाते हैं।

 

दूब का रस पीने से एनीमिया ठीक हो जाता है।




Source code : amazon kindle

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां