Subscribe Us

header ads

sukha meva khane ke fayde | सूखा मेवा खाने के फ़ायदे


sukha meva khane ke fayde

सूखे मेवे में प्रोटीन, फाइबर, फॉलिक एसिड, विटामिन ई, विटामिन बी-6 और खनिज पदार्थ की भरपूर मात्रा होती है।

 

बादाम में मौजूद 65 प्रतिशत मोनोसेचुरेटिड फैट शरीर के बैड कोलेस्ट्रॉल को कम और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है।

 

बादाम में विटामिन ई, विटामिन बी और फाइबर मौजूद होते हैं। कैल्शियम की अच्छी मात्रा होने की वजह से बादाम महिलाओं के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। बादाम को बिना छीले खाना चाहिए, क्योंकि इसके छिलकों में वोनॉइड्स नाम का एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो हृदय और रक्त धमनियों को सुरक्षित रखने में सहायक होता है।

 

बादाम में कार्बोहाइड्रेट की बेहद कम मात्रा होती है। ज्यादा बादाम खाने से कब्ज हो सकती है, इसलिए दिन में 5 बादाम से ज्यादा न खाएं।

 

काजू को मेवों का राजा कहा जाता है। काजू को प्रोटीन, मिनरल सॉल्ट, जिंक, आयरन, फाइबर और मैगनीशियम का अच्छा स्रोत माना जाता है। काजू का सेवन शरीर को ऊर्जा देने के साथ कई बीमारियों से रक्षाकरता है। काजू ज्यादा न खाएं। इससे खुश्की और खांसी हो सकती है। ज्यादा काजू खाने से एसिडिटी की दिक्कत हो सकती है।

 

अखरोट में मौजूद फैट और पौष्टिक तत्त्व शरीर में इंसुलिन की मात्रा को संतुलित रखने में सहायक होते हैं। एग्जिमा और अस्थमा के रोगियों के लिए अखरोट फायदेमंद होता है। अखरोट से टाइप टू डाइबिटीज के रोगियों में हृदय रोग की आशंका कम हो जाती है। अखरोट को 10 ग्राम से 20 ग्राम मात्रा में ही खाएं। अखरोट गरम व खुश्क प्रति का होता है। अखरोट पित्त प्रतिवालों के लिए हानिकारक होता है।

 

सूखी अंजीर भूख को नियंत्रित रखने में सहायक होती है। इसमें फाइबर और पोटेशियम की मात्रा ज्यादा होती है। मोटे लोगों को सूखी अंजीर का सेवन करना चाहिए। यह उनका वजन कम करने में भी सहायक होती है। अंजीर का अधिक सेवन जिगर के लिए हानिकारक हो सकता है। अंजीर गरम होती है, इसलिए 5 दाने से ज्यादा न खाएं।

 

पिस्ता हृदय रोगियों के लिए बेहद लाभकारी है। यह विटामिन बी-6 का प्रमुख स्रोत है। इसमें विटामिन और खनिज भरपूर मात्रा में होते हैं। डाइटिंगकर रही महिलाओं के लिए पिस्ता फायदेमंद होता है, क्योंकि इससे पेट ज्यादा देर तक भरा रहता है। ज्यादा पिस्ता खाने से एसिडिटी की दिक्कत हो सकती है। पिस्ते में नमक होने की वजह से रक्तचाप के मरीजों के लिए ज्यादा नुकसानदायक है।

 

किशमिश के सेवन से कब्ज दूर होती है। इसे एक बढ़िया एंटीऑक्सीडेंट माना जाता है, जो स्टैमिना बढ़ाता है। किशमिश अल्जाइमर जैसी गंभीर बीमारी

 

से राहत दिलाने में भी उपयोगी साबित हुई है। अल्जाइमर को भूलनेवाला रोग भी कहते हैं। इसके कारण आपकी याददाश्त कमजोर हो जाती है और भूलने लगते हैं। किशमिश को भिगोकर खाना ही फायदेमंद होता है।

 

मूंगफली में प्रोटीन की भरपूर मात्रा होती है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स भी होते हैं। अगर मूंगफली को डिब्बे में बंदकरके फ्रिज में रखा जाए, तो ये छह महीने तक खराब नहीं होती। जिनको अस्थमा की दिक्कत है, वे प्रेग्नेंसी के समय

मूंगफली न खाएं। मूंगफली गर्म होती हैं। ज्यादा खाने से गर्मी की शिकायत हो सकती है।


Source code : amazon kindle

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां